ICU Meaning in Hindi

ICU Meaning in Hindi

ICU full form

ICU की फुल फॉर्म “Intensive Care Unit” होती है, हिंदी भाषा में इसे “गहन चिकित्सा विभाग” कहते है. दोस्तों ICU प्रत्येक Hospital में present होता है, ICU Hospital के एक अलग Department को कहा जाता है. यह विभाग patient को “Intensive Treatment Medicine” provide कराने का काम कराता है. एक ICU चिकित्सा के अत्याधुनिक instrument  से परिपूर्ण रहता है।

आईसीयू क्या है  ?

ICU hospital के एक विशेष department को कहा जाता है यह patient  के लिए गहन देखभाल और medicines प्रदान करता है, Intensive Care Unit (ICU) का काम मरीजों की सबसे serious और भयंकर वाली बीमारियों और चोटों का इलाज करना हैं, जिन्हें हॉस्पिटल में विशेष doctors और nurses द्वारा continuously और करीबी निगरानी की आवश्यकता होती है, important  हो तो इमरजेंसी department से सीधे ICU में मरीजों को shift किया जा सकता है. यह काम Normally तब किया जाता है जब रोगी की स्थिति continuously बिगड़ जाती है। 

ICU के उपकरण
  • Ventilator − इस मशीन तब इस्तेमाल में लाया जाता है जब patient  सांस लेने मे able भी नहीं होता है।
  • Feeding Tube इस मशीन का use patients के bodyमें खाना पहुँचाने और extract  के लिए किया जाता है।
  • EEG Box − इस instrument  का उपयोग doctors आई.सी.यू में patient के रोग के बारे में एक से ज्यादा information लेने के लिए करते है।
  • Dialysis − इस मशीन का use मरीज की body से blood निकालकर उसे purify करके पुन: उसके शरीर में insert करने के लिए किया जाता है ।
  • Pulse oximeter − इस Machine से रोगी के खून में oxygen level को मापा जाता है, इस मशीन को मरीज की  fingers में लगा दिया जाता है ।   

ICU Kya Hai

 एक अस्पताल या स्वास्थ्य देखभाल सुविधा का एक special विभाग है, जो गहन देखभाल, उपचार, चिकित्सा और चिकित्सा प्रदान करने का काम करता है. ICU एक गंभीर चोट, बीमारी या बीमारी से पीड़ित रोगियों को गहन देखभाल medicine और जीवन support  प्रदान करता है. गहन देखभाल Units उन रोगियों की देखभाल करती हैं, जिन्हें विशेष डॉक्टरों और नर्सों की एक टीम द्वारा continuously  और करीबी survulence  की आवश्यकता होती है. यह team  गंभीर रूप से बीमार या गंभीर रूप से घायल रोगियों की देखभाल में प्रशिक्षित है।

जरुरत पड़ने पर patient  को Emergency department से सीधे ICU में shift करते है. यह आमतौर पर किया जाता है यदि patient  की condition लगातार बिगड़ रही है, तब ऐसा किया जाता है. एक ICU विभिन्न चिकित्सा उपकरणों से सुसज्जित है, जैसे; मैकेनिकल वेंटिलेटर, डायलिसिस मशीन, बाहरी पेसमेकर, सिरिंज पंप, इन्फ्यूजन पंप, ईसीजी (Electrocardiogram), डिफिब्रिलेटर, एनेस्थीसिया मशीन, Blood warmer, रोगी मॉनिटर, feeding ट्यूब, सिस्ट ट्यूब आदि कुछ main चोटों और बीमारियों के लिए विशेष उपचार की आवश्यकता होती है. Heart attack, high blood pressure , अस्थमा या जटिल निमोनिया के कारण श्वसन प्रणाली में समस्या, Emergency मामलों में बड़ी सर्जरी की आवश्यकता होती है, जिसमें बड़ी सर्जरी और कोमा में रोगियों, liver  की समस्याओं और kidney की विफलता के मामलों में डायलिसिस की आवश्यकता होती है, एक बड़ी सर्जरी। 

उन शिशुओं के लिए एक विशेष आईसीयू है जो premature  पैदा हुए हैं, या गंभीर बीमारी के साथ Born हुए हैं. इसे नवजात instensive Careइकाई (NICU) कहा जाता है।

ICU को गहन medical इकाई या गहन treatment इकाई (ITU) या critical  केयर यूनिट (CCU) के रूप में भी जाना जाता है. आईसीयू के पहले चिकित्सक Peter safar थे।

हर बड़े Hospital में लगभग 20-30% तक ICU बेड होते है

अगर किसी Patient  कोई बड़ा surgery  होती है तो डॉक्टर्स उसे ICU  में रखते है .

किसी व्यक्ति को Heart आने पर उसे भी ICU में रखा जाता है .

Pump, इन्फ्यूजन पंप, ईसीजी (Electrocardiogram), डिफिब्रिलेटर, एनेस्थीसिया मशीन, ब्लड वार्मर, रोगी मॉनिटर, feeding ट्यूब, सिस्ट ट्यूब आदि कुछ main चोटों और बीमारियों के लिए विशेष treatment की आवश्यकता होती है. दिल का दौरा, high blood pressure अस्थमा या जटिल निमोनिया के कारण Breathe  प्रणाली में समस्या, Emergency  मामलों में बड़ी surgery  की आवश्यकता होती है, जिसमें बड़ी सर्जरी और koma में रोगियों, liver की समस्याओं और kidney failure के मामलों में dialysis की आवश्यकता होती है, एक बड़ी surgery 

उन Newborn के लिए एक विशेष आईसीयू है जो premature  पैदा हुए हैं, या several बीमारी के साथ पैदा हुए हैं.  गहन देखभाल इकाई (NICU) कहा जाता है।

ICU को गहन चिकित्सा इकाई या गहन treatment इकाई (ITU) या क्रिटिकल केयर यूनिट (CCU) के रूप में भी जाना जाता है. आईसीयू के पहले चिकित्सक पीटर सफार थे।

ICU से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी

ICU का use सिर्फ critical रूप से injured मरीज़ों के लिये ही किया जाता है, Normal बीमारी वालो मरीज़ों को इसमे नही रखा जाता है .

Sabhi अस्पताल में लगभग 20-30% तक ICU beds होते है ।

  • अगर किसी व्यक्ति का कोई बड़ा operation  या सर्जरी होती है तो डॉक्टर्स उसे ICU Ward में रखते है ।
  • किसी व्यक्ति को दिल का दौरा आने पर उसे भी ICU में रखा जाता है ।
  • चोट और disease जिन्हें आईसीयू में विशेष उपचार की need होती है इस प्रकार है
  • गंभीर दिल की समस्याएं जैसे herat attack, अत्यधिक low रक्तचाप का होना।
  • asthma या जटिल निमोनिया के कारण श्वसन प्रणाली में समस्या, का होना।
  • Accident के case में बड़ी सर्जरी और immediately कार्रवाई की आवश्यकता होती है।
  • जो मरीज कोमा में है उनके लिए।
  • एक बड़ी surgery के बाद।

chest की समस्याएं और kidney failure  के मामले जिन्हें डायलिसिस की आवश्यकता होती ICU में सिर्फ उन्हीं patient को रखा जाता है या फिर जिनकी हालत बहुत critical होती है और उनको बचा पाना impossible लग रहा होता है. Doctors की टीम उन्हें अपने अच्छे Maintenance में रखते हैं 

Leave a Reply